10 Lines On Bhagat Singh In Hindi And English Language

10 Lines On Bhagat Singh in hindi and english language.jpg

नमस्ते दोस्तों आज हम भगतसिंह पर 10 पंक्तियाँ हिंदी और इंग्लिश में (The Legend Of Bhagat Singh) (10 Lines Essay On Bhagat Singh In Hindi And English Language) लिखेंगे दोस्तों यह 10 पॉइंट (Kids) class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12  और College के विद्यार्थियों के लिए लिखे गए है।

हमारी Website पर आप बड़े निबंध भी पढ़ सकते है। इस 10 Lines का वीडियो नीचे दिया गया है। वेबसाइट के सभी लेखो के विडियो देखने के लिए हमारे YouTube Channel पर जाये। आपसे निवेदन है की हमारे Channel को Subscribe करें।

भगतसिंह एक ऐसा नाम जो हमारे देश के हर व्यक्ति की जबान पर है। भगतसिंह ने भारत देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान दिया। वे मृत्यु से कभी नहीं डरे।

जब व्यक्ति में अपने देश के लिए प्रेम होता है तो उसे अपने देश की भलाई से ज्यादा कुछ और महत्वपूर्ण नहीं लगता है। यही देश प्रेम भगतसिंह में था। आज हम महान क्रन्तिकारी भगतसिंह पर 10 पंक्तियाँ को हिंदी और इंग्लिश भाषा में पढेंगे

10 Lines Essay On Bhagat Singh In Hindi


  1. भगत सिंह को भारतीय राष्ट्रवादी आंदोलन के सबसे प्रभावशाली और महान क्रांतिकारियों में गिना जाता है ।
  2. भगत सिंह का जन्म 27 सितंबर, 1907 को लायलपुर ज़िले के बंगा में हुआ था, जो अब पाकिस्तान में स्थित है। उनके पैतृक गांव नाम पैतृक गांव खट्कड़ कलां  है जो भारत के पंजाब में है।
  3. भगत सिंह के पिता का नाम किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती था।
  4.  भगत सिंह का परिवार ग़दर पार्टी के समर्थक होने के साथ जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड ने भगत सिंह के दिल में देश भक्ति की भावना उत्पन्न करने में प्रमुख भूमिका निभाई ।
  5. भगत सिंह ने अपने गाँव से 5वीं की पढाई करने बाद आगे की पढाई दयानंद एंग्लो वैदिक हाई स्कूल से की थी।
  6. भगत सिंह ने बीच में पढाई छोड़ कर भारत की आज़ादी के लिए नौजवान भारत सभा की स्थापना की थी। इसके बाद वे चंद्रशेखर आजाद की  पार्टी हिन्दुस्तान रिपब्लिकन ऐसोसिएशन से जुड़ गए।
  7. भगत सिंह ने गाँधी जी का बहुत सम्मान करते थे मगर कुछ घटनाओ ने अहिंसा पर से उनका विश्वास कम कर दिए।  जिसके बाद उन्होंने ये माना की हथियार के दम पर ही भारत को स्वतंत्रता मिल सकती है।
  8. भगत सिंह आजादी के मतवाले ही नहीं बल्कि एक अच्छे लेखक, वक्ता, पाठक और पत्रकार भी थे। वे हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत, पंजाबी, उर्दू, बंगला और आयरिश भाषा के विद्वान थे।
  9. भगत सिंह ने लाला लाजपतराय का बदला लेने के बाद बटुकेश्वर दत्त के साथ मिलकर दिल्ली की सेंटल असेंबली बिना किसी को नुकसान पहुंचाए  8 अप्रैल 1929 को बम फेंका और  इंकलाब-जिन्दाबाद के नारे लगाये
  10. 23 March 1931 को भगत सिंह 23 साल की उम्र अपनी मात्रभूमि के लिए शहीद हो गये।

ये भी पढ़े 


5 Lines Essay On Bhagat Singh In Hindi


  1. भगत सिंह गरम दल से थे। उनके आक्रमक रवैये ने अंग्रेज सरकार को भी भयभीत कर दिया था। वे अंग्रेजो द्वारा भारतीयों  पर अन्याय करना सहन नहीं करते थे।
  2. भगतसिंह ने शादी करने से मना कर दिया। जब घर वालो ने दबाव बनाया तो उन्होंने घर छोड़ दिया क्योंकि वे जिस रास्ते पे चल रहे थे, वहा मृत्यु निश्चित थी इसलिए उन्होंने शादी से माना किया उन्होंने बोला मृत्यु ही मेरी दुल्हन होगी।
  3. जेल में रहते हुए भी भगत सिंह ने क्रांतिकारी रवैया अपनाते हुए कैदियों को प्रेरित कर उनमे देश भक्ति की भावना का जोश भरा। जिसने अंग्रेजों को नाकों चने चबवा दिए।
  4. भगत सिंह और उनके साथियों ने 64 दिन की भूख हड़ताल की जिससे उनके एक साथी यतीन्द्रनाथ दास की भूख हड़ताल के दौरान मृत्यु हो गयी थी।
  5. भगत सिंह महान देश प्रेमी और स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे। उनका बलिदान नौजवानों को देश प्रेम के लिए प्रेरित करता है। भगत सिंह आज भी हम सभी के दिलो में है।

10 Lines Essay On Bhagat Singh In English


  1. Bhagat Singh is counted among the most influential and great revolutionaries of the Indian nationalist movement.
  2. Bhagat Singh was born on September 27, 1907 in Banga, Lyallpur district, which is now located in Pakistan. His native village name is ancestral village Khatkar Kalan which is in Punjab, India.
  3. Bhagat Singh’s father’s name was Kishan Singh and mother’s name was Vidyavati.
  4. With Bhagat Singh’s family being supporters of the Ghadar Party, the Jallianwala Bagh massacre played a major role in instilling a sense of patriotism in Bhagat Singh’s heart.
  5. Bhagat Singh did his further studies from Dayanand Anglo Vedic High School after completing his 5th standard from his village.
  6. Bhagat Singh had founded the Naujawan Bharat Sabha for the independence of India, leaving his studies in the middle. After this he joined Chandrashekhar Azad’s party, Hindustan Republican Association.
  7. Bhagat Singh had great respect for Gandhiji, but some incidents reduced his faith in non-violence. After which he believed that India can get independence only on the basis of arms.
  8. Bhagat Singh was not only a voter of independence but also a good writer, speaker, reader and journalist. He was a scholar of Hindi, English, Sanskrit, Punjabi, Urdu, Bengali and Irish languages.
  9. After Bhagat Singh took revenge of Lala Lajpat Rai, Bhagat Singh, along with Batukeshwar Dutt, threw a bomb on 8 April 1929, without harming anyone, the Central Assembly of Delhi and raised slogans of Inquilab Zindabad.
  10. On 23 March 1931, Bhag Singh was martyred for his motherland at the age of 23

5 Lines Essay On Bhagat Singh In English


  1. Bhagat Singh was from the Garam Dal. His aggressive attitude had terrified the British government as well. They did not tolerate injustice done to Indians by the British.
  2. Bhagat Singh refused to marry. When the family members put pressure, they left the house because death was certain on the road they were walking on, so they agreed to the marriage and said that death would be my bride.
  3. Even while in jail, Bhag Singh, adopting a revolutionary attitude, inspired the prisoners and instilled in them the spirit of patriotism. Who made the British chew the gram.
  4. Bhagat Singh and his companions went on a hunger strike for 64 days, due to which one of his companions, Yatindranath Das, died during the hunger strike.
  5. Bhagat Singh was one of the great patriots and freedom fighters. His sacrifice inspires the youth for patriotism. Bhagat Singh is still in the hearts of all of us.

इन्हें भी पढ़े 

तो ये थी 10 पंक्तियाँ मेरी भगतसिंह पर उम्मीद करता हूँ। भगतसिंह पर 10 पंक्तियाँ हिंदी और इंग्लिश में (10 Lines Essay On Bhagat Singh In Hindi And English Language) आपको जरुर पसंद आई होगी। अगर पसंद आये तो इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें। धन्यवाद