मेरे देश भारत पर निबंध II My Country India Essay In Hindi

मेरे देश भारत पर निबंध II My Country India Essay In Hindi

नमस्ते दोस्तों आज हम आज हम मेरे देश पर निबंध (Essay On My Country India In Hindi) लिखेंगे। मेरे देश पर लिखा गया निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।


मेरे देश पर निबंध II Essay On My Country  In Hindi


प्रस्तावना


भारत प्राचीन काल से ही सबसे समृद्ध और धनवान देश रहा है। आज भले वो स्थिति नहीं है क्योंकि अंग्रेजो यहाँ की सारी धन संपदा लूटकर ले गये है मगर फिर भी यहाँ कोई कमी नहीं है।

भारत का संविधान भारत को एक संप्रभु, समाजवादी, धर्मनिरपेक्ष, लोकतान्त्रिक गणराज्य घोषित करता है। भारत एक लोकतांत्रिक गणराज्य है, जो दुनिया में सबसे अलग है।

भारत अपनी संस्कृति के लिए जाना है। भारत में जो विशेषताए देखने को मिलती है वो किसी और देश में नहीं है। पूरे विश्व में भारत ही ऐसा देश है जहाँ सनातन धर्म मौजूद है।

भारत में कुल 140 करोड़ जनसँख्या निवास करती है जो संख्या की दृष्टि से दुसरे स्थान पर है। भारत के आकर्षण से विदेशी लोग भी खिचे चले आते है और यही के होकर रह जाते है।

भारत के योगदान और अच्छे मार्गदर्शन के कारण भारत को विश्व का गुरु कहाँ जाता है। आने वाले कुछ सालो बाद भारत पूरी दुनिया का नेत्रत्व करेंगा इस बात से सभी भली भांति परिचित है।

आज जिस विज्ञानं के अविष्कार की बात लोग करते है ये तो भारत में प्राचीन काल में हो चुके है जिसका ज्ञान भारत के द्वारा ही पूरी दुनिया में फैला है।


भारत की नामोत्पत्ति (Origin of India)


भारत को हम दो नाम से जानते है हिंदी में भारत और अंग्रेजी में इंडिया श्रीमद्भागवत महापुराण में बताया गया है कि राजा दशरथ के चार पुत्र थे जिसमे एक का नाम भरत था।

भरत भगवन राम के भाई थे जो एक महान राजा थे। वे निडर और साहसी थे बचपन में वे सिंह के बच्चों के साथ खेलते थे इनके नाम पर इस देश का नाम भारत रखा गया।

भारत को अन्य कई नामो से भी जाना जाता है। जैसे:  हिंदुस्तान और सोने की चिड़ियाँ हिंदुस्तान नाम सिन्धु घटी के पास रहने वाले लोगो से पड़ा और सोने की चिड़ियाँ भारत में मौजूद भारी धन संपदा और सोने चांदी की भरमार के कारण कहा जाता है।


भारत के राष्ट्रीय प्रतीक



राष्‍ट्रीय पहचान के प्रतीकप्रतीक व चिन्ह का नाम
भारत का राष्ट्रीय ध्वजतिरंगा
भारत का राष्ट्रीय गानजन-गन-मन
भारत का राष्ट्रीय गीतवन्दे मातरम्
भारत का राष्ट्रीय चिन्हअशोक स्तम्भ
भारत का राष्ट्रीय वाक्यसत्यमेव जयते
भारत की राष्ट्रीय लिपिदेव नागरी
भारत का राष्ट्रीय ध्वज गीतहिंद देश का प्यारा झंडा
भारत का राष्ट्रीय नाराश्रमेव जयते
भारत के  राष्ट्र पितामहात्मा गाँधी
भारत का राष्ट्रीय पुरस्कारभारत रत्न
भारत का राष्ट्रीय वृक्षबरगद
भारत की राष्ट्रीय मुद्रारूपया
भारत की राष्ट्रीय  नदीगंगा
भारत का राष्ट्रीय पक्षीमोर
भारत का राष्ट्रीय पशुबाघ
भारत का राष्ट्रीय फूलकमल
भारत का राष्ट्रीय फलआम
भारत का राष्ट्रीय खेलहॉकी
भारत की राष्ट्रीय मिठाईजलेबी
भारत के राष्ट्रीय पर्व26 जनवरी (गणतंत्र दिवस), 15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस), 2 अक्तूबर (गाँधी जयंती)
भारत का राष्ट्रीय पकवानखिचड़ी

भारत की संस्कृति


  • स्त्री सम्मान

भारत में प्राचीन काल से ही स्त्री को देवी का रूप मानकर उसकी पूजा की जाती है। भारत में स्त्री और पुरुष को समान अधिकार प्राप्त  हैं।  भारत में स्त्री को अपने जीवन से संबंधित फैसले लेने के साथ ही किसी भी मामलो में अपनी अपनी बात रखने की पूरी आजादी है तो वही पुरुष भी स्त्री का पूरा सहयोग करते है।


  • बड़ो का सम्मान करना 

भारत में सभी लोग एक दूसरे के साथ मधुर सम्बन्ध रखते है। जरूरत पड़ने पर एक दुसरे के घर जाकर अपना सुख दुःख बंटते है। भारत में बड़े लोगो के चरण छूना, नमस्ते करना और भगवान का नाम लेकर प्रणाम करना यहाँ की संस्कृति है जो भारत की विशेषता है।


  • धार्मिक एकता

दुनिया में केवल भारत में ही ऐसा देश है जहां एक ही धरती पर हिन्दू, मुस्लिम, सिख और इसाई जैसे विभिन्न धर्मो के लोग  साथ रहते हैं। सभी धर्म अलग जरुर है मगर उन सभी का दिल भारत और भारत के लोगो के प्रति भाईचारे के लिए धडकता है।

भारत में सभी लोग एक दूसरे के धर्म और आस्था का पूरा सम्मान करते हैं और जरूरत पड़ने पर एक दूसरे की मदद की मदद करने से कभी पीछे नहीं हटाते है यही भारत की सबसे बड़ी ताकत है।


  • ऋषि मुनियों और राम की भूमि

प्राचीन काल से ही भारत महान ऋषि मुनियों की जन्मभूमि रही है। यहां कई बड़े बड़े ऋषि-मुनियों ने जन्म लिया। जैसे महर्षि गौतम, अंगीरा, परशुराम, कणाद, विश्वामित्र आदि।

भगवान् राम और कृष्ण जी जो विष्णु जी के अवतार थे उन्होंने कई रूपों में भारत की धरती पर जन्म लिया और धरती पर से अत्यचारी राक्षसों का सर्वनाश करके इस धरती पर धर्म की स्थापन की। आज भी विष्णु भगवान के अवतारों के अवशेष मौजूद है जिसमे सबसे बड़ा उदहारण रामसेतु है जो समुद्र और श्री लंका के बीच बना पुल है।


  • वीरो की भूमि

शुरू से ही भारत वीरो पुरुषो और वीरांगनाओं की भूमि रही है। ऐतिहासिक काल के राजा महाराजा अपने शौर्य, वीरता, और दयालुता प्रसिद्ध थे तो आधुनिक काल में  स्वतंत्रता सेनानी देशभक्ति के लिए प्रसिद्ध थे।

भारत में वीर शिवाजी, महाराणा प्रताप, महाराणा कुम्भा, लक्ष्मी बाई, भगतसिंह, चंद्रशेखर आजाद जैसे वीरो ने जन्म लेकर इस धरती को अमर कर दिया जिन्हें आज भी याद किया जाता है।


  •  भारत की भाषायें

किसी भी देश में या तो अंग्रेजी बोली जाती है या देशी भाषा मगर भारत एक अकेला ऐसा देशा है जहाँ 1000 से भी ज्यादा भाषाएँ बोली जाती है। हालाँकि 22 भाषाओँ को मान्यता प्राप्त है मगर भारत के प्रत्येक जगह-अलग भाषा बोली जाती है।


  • भारत के त्योहार

भारत त्यौहारों का देश है यहाँ हर महीने कोई ना कोई त्यौहार मनाया जाता है जो पुरे वर्षभर चलता है। भारत में मनाये जाने वाले सभी त्यौहार भगवान् के प्रति आस्था का प्रतिक है जिनमे होली, दिवाली, दुर्गा पूजा, नवरात्री आदि आते है।

भारत में मनाये जाने वाले अधिकतर त्यौहार विदेशो में भी मनाये जाते है। भारतीय त्यौहार को भारत के सभी धर्म के लोग मानते है जो इसे एकता के सूत्र में बंधता है इसलिए भारत को त्योहारों का देश भी कहा जाता है।


  • भारत का पहनावा

भारतीय पहनावा भी पूरी दुनिया के पहनावे से बेहतर है इसमें कोई नंगापन नहीं है। यहाँ महिलाये साडी, सलवार कुर्ता और लहंगा पहनती है तो पुरुष पेंट शर्त, शेरवानी, कुर्ता पजामा, धोती आदि पहनते है।

आज भी भारत पश्चिमी सभ्यता के पहनावे से ज्यादा पारम्परिक और संस्कृतिक पहनावे को ही महत्त्व देता है दुनिया भी भारतीय पहनावे को अपना रही है जो एक बहुत बड़ी बात है।


  • धरती और गाय को माँ का दर्जा

भारत में धरती को माँ का दर्जा दिया है क्योंकि ये हमे रहने के लिए घर, पीने के लिए पानी और खाने के लिए अन्न देती है जो एक माँ ही करती है।

गाय हमे दूध देती है, गाय से खेती की जाती है ये सब निस्वार्थ भावना से करती है बदले में कुछ नहीं मांगती है। इसलिए भारतीय संस्कृति में गाय को माता कहा गया है। यही सोच भारत को ओरो से अलग करती है।


  भारत की अर्थव्यवस्था


भारत की अर्थव्यवस्था विश्व की 6वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। क्रय शक्ति के अनुसार विश्व का 10 वाँ सबसे बड़ा देश है। भारत की आर्थिक विकास दर 8% है यहां की मुद्रा “रुपया” है। मुंबई भारत की आर्थिक राजधानी है।


26 जनवरी (गणतंत्र दिवस )/15 अगस्त (स्वतंत्रता दिवस)


26 को हमारा सविधान लागु हुआ था और 15 अगस्त को भारत देश आजाद हुआ था। इस दिन वीर शहीदों को याद किया जाता है और उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की जाती है। इस अवसर पर सभी स्कूल और कॉलेजो में देश भक्ति गीत गाये जाते है और सांस्कृतिक कार्यक्रम होते है।


भारत के राज्य और राजधानी 


भारत मे कुल  28 राज्य है और 9 केन्द्र शासित प्रदेश है, इनके नाम इस प्रकार है-

1.   असम दिसपुर
2.‌‌   अरुणाचल प्रदेश इटानगर
3.   उत्तर प्रदेश लखनऊ
4.   ओडिशा भुवनेश्वर
5.   उत्तराखण्ड देहरादून
6.   आन्ध्रप्रदेश अमरावती ( हैदराबाद )
7.   कर्नाटक बंगलोर
8.   केरल तिरुवनंतपुरम
9‌.   गुजरात गांधीनगर
10. गोवा पणजी
11. छत्तीसगढ़ रायपुर
12. झारखण्ड रांची
13. तमिलनाडु चेन्नई
14. तेलंगाना हैदराबाद
15. त्रिपुरा अगरतला
16. नागालैंड कोहिमा
17. पश्चिम बंगाल कोलकाता
18. पंजाब चंडीगढ़
19. बिहार पटना
20. मणिपुर इम्फाल
21. मध्य प्रदेश भोपाल
22. महाराष्ट्र मुंबई
23. मिजोरम आइजोल
24. मेघालय शिलांग
25. राजस्थान जयपुर
26. सिक्किम गंगटोक
27. हरियाणा चंडीगढ़
28. हिमाचल प्रदेश शिमला

भारत के केन्द्र शासित प्रदेश (Union Territories)


1. चंडीगढ़ चंडीगढ़
2. दमन और द्वीप दमन
3. दादरा और नागर हवेली सिलवासा
4. पॉन्डिचेरी पुडुचेरी
5. लक्षद्वीप कवरत्ती
6. दिल्ली नई दिल्ली
7. अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह पोर्ट ब्लेयर
8. जम्मू कश्मीरगर्मियों में) श्रीनगर और (सर्दियों में) जम्मू
9. लद्दाखलेह

वसुधैव कुटुम्बकम्


प्राचीन काल से ही भारत ने पुरे विश्व को अपना परिवार माना है और यही विचारधरा आज भी भारत निभा रहा है। जब भी मुश्किल समय में दुनिया को भारत की जरूरत पड़ी है।  भारत ने इसी विचारधरा को लेकर लोगो की मदद भी की है।

कोरोनाकल में बीमारी से पूरी दुनिया में जब हाहाकार मच गया था। तब भारत ने कोरोना की वैक्सीन बनाकर एक किरण की उम्मीद जगाई और बिना किसी स्वार्थ और लालच के पुरे विश्व में मुफ्त कोरोना वैक्सीन बांटकर वसुधैव कुटुम्बकम् की विचारधारा को कायम रखा।


भारत विश्वगुरु


दुनिया में हुए अधिकतर अविष्कार का जनक भारत ही है। जिस ज्ञान के आधार पर नए-नए अविष्कार हुए है वो सब भारत ने ही दुनिया को दिए है।

भारत ने कई अविष्कार किये जैसे: चिकित्सा, विमान, प्लस्टिक सर्जरी, बिजली, ज्यमिति, शून्य, और परमाणु इनके आलावा भी न जाने कितने अविष्कार है  जो प्राचीन काल में हो गये थे और इनका विवरण वेद और पुराणों में लिखा गया है और इसलिए कहा जाता है आने वाली सदी में भारत दुनिया का नेतृत्व करेगा।


भारत के पर्यटन स्थल


भारत में ऐतिहासिक काल में राजा महाराजाओं  का शासन रहा। जिन्होंने अद्भुत किले और ऐसी कलाकृतियाँ बनाई जिन्हें देखते ही व्यक्ति आश्चर्य चकित हो जाता है।

भारत में बना ताज महल जो 8 अजूबे में गिना जाता है इसे देखने हर साल लाखो की संख्या में लोग आते है इसके आलावा भी भारत में अनगिनत पर्यटक स्थल है, जहाँ विदेशी सैलानी घुमने के लिए भारत आते है।


भारत का खानपान


भारत के अधिकतर लोग का खानपान शाकाहारी है। भारत के लोग खानपान में चावल, दाल, रोटी सब्जी और अन्य कई प्रकार के स्वादिष्ट भोजन बनाते है।  भारतीय भोजन अपने स्वादिष्ट खाने के लिए जाना जाता है। विदेश में भी भारतीय खाना पसंद किया जाता है।

भारत के प्रत्येक राज्य का एक विशेष भोजन होता है जैसे:- राजस्थान में दाल बाटी चूरमा,  उत्तराखंड,  आलू के गुटकेए कापाए झंगोरा की खीरए चैनसू, बिहार लिट्टी चोखाए सत्तू पराठा आदि।

आज भारत की शाकाहारी आदतों को विदेशी भी अपना रहे है उनका भी मानना है की प्रकृति की सुरक्षा और अच्छे  स्वस्थ जीवन के लिए शाकाहार होना बहुत जरुरी है।


निष्कर्ष


भारत की संस्कृति में जो विशेषताएं पाई जाती है वो दुनिया की किसी संस्कृति में ना लिखी है और ना मिलेगी इसलिए जरूरत पड़ने पर दुनिया आशा भरी दृष्टि से भारत की और ही देखती है।

भारत सबसे प्राचीन देशो में से एक है और दुनिया का विश्व गुरु भी है। किसी भी मायने में भारत को किसी देश से नहीं आँका जा सकता है। भारत के द्वार दिए गये ज्ञान से ही दुनिया प्रगति की और अग्रसर हो सकी है अत: हम कहा सकते है की मेरे भारत जैसा कोई और देश नहीं है।

ये भी पढ़े

तो दोस्तों ये था जल है तो कल है के बारे में निबंध उम्मीद करता हूँ आपको मेरे देश पर निबंध II (My Country India Essay In Hindi) जरुर पसंद आया होगा अगर पसंद आये तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें धन्यवाद